संस्कारों से बड़ी कोई वसीयत नहीं होती

संस्कारों से बड़ी कोई वसीयत नहीं होती