Funny Stories: रोचक हिन्दी कहानी : शीलवान कैसे बने, शील का क्या लक्षण है, और वह कैसे प्राप्त होता है ?

उसके चले जाने पर उनके शरीर से बड़े जोर की गर्जना करता हुआ एक तेजस्वी पुरुष प्रकट हुआ। परिचय पूछने पर वह बोला - मैं "बल" हूं, और जहां सदाचार गया है, वहीं मैं भी जा रहा हूं। यह कहकर वह भी चला गया। तत्पश्चात प्रह्लाद के शरीर से एक प्रभामयी देवी प्रकट हुई। पूछने पर उसने बताया - मैं "लक्ष्मी" हूं। तुमने मुझे त्याग दिया है इसलिए यहां से चली जा रही हूं क्योंकि जहां बल रहता है वहीं मैं भी रहती हूं।

 प्रह्लाद ने पुनः प्रश्न किया - देवी ! तुम कहां जा रही हो और

Continue Reading

Related Motivational Articles See all Articles

line.svg