Gajanan Madhav Muktibodh Biography In Hindi – गजानन माधव मुक्तिबोध

Gajanan Madhav Muktibodh Biography In Hindi , Gajanan Madhav Muktibodh In Hindi- गजानन माधव मुक्तिबोध गजानन माधव मुक्तिबोध जी के बारे में  पूरी जानकारी आज की पोस्ट में हम आपको देंगे।

Gajanan Madhav Muktibodh  – जीवन परिचय

गजानन माधव मुक्तिबोध का जन्म मध्य प्रदेश के मुरैना जनपद के श्योपुर नामक कस्बे में 13 नवंबर 1917 को हुआ उनके किसी और पूर्वज को मुक्तिबोध की उपाधि प्राप्त हुई थी। इसलिए कुलकर्णी के स्थान पर मुक्तिबोध है कहलाने लगे।

उनके पिता का नाम माधव मुक्तिबोध था , जो कि पुलिस इंस्पेक्टर थे। वे एक न्यायप्रिय अधिकारी होने के साथ साथ है धर्म तथा दर्शन में अत्यधिक रुचि रखते थे। गजानन माधव का पालन-पोषण बड़े लाड प्यार से हुआ।

वे एक योग्य विद्यार्थी नहीं थे 1930 में वे मिडिल की परीक्षा में असफल रहे, तथा 1937 में प्रथमा प्रयास में बीए की परीक्षा b.a. की परीक्षा भी उतीर्ण नहीं कर सके। उन्होंने सन् 1953 में नागपुर विश्वविद्यालय में m.a. की परीक्षा पास की।

विद्यार्थी जीवन से ही वे काव्य रचना करने लगे थे उनकी आरंभिक रचनाएं माखनलाल चतुर्वेदी द्वारा संपादित है ” कर्मवीर ” में प्रकाशित हुई थी। आरंभ में उन्होंने बड़नगर के मिडिल स्कूल में 4 महीने तक अध्यापन का कार्य किया बाद में शुजालपुर में

नगर पालिका के विद्यालय में सत्र तक का पढ़ाते रहे। 1942 में उज्जैन चले गए और वहां रहते हुए उन्होंने ” मध्य भारत प्रगतिशील लेखक संघ ” की स्थापना की।

सन 1945 में ” हंस ” पत्रिका के संपादकीय विभाग में स्थान पाया । सन 1946 – 47 मे वे जबलपुर में रहे।सन 948 में नागपुर चले गए 1958 में मुक्तिबोध राजनांदगांव के दिग्विजय कॉलेज में अध्यापक के रूप में कार्य करने लगे। 

11 सितंबर 1964 को प्रगतिशील कवि का निधन ” मेनिनजाइटिस ” रोग के कारण दिल्ली में हुआ ।


Continue Reading

Related Poetry & Shayari Articles See all Articles

line.svg