Phanishwar Nath Renu – फणीश्वर नाथ रेणु जीवन परिचय

फणीश्वर नाथ रेणु जीवन परिचय 

 श्री फणीश्वर नाथ रेणु हिंदी साहित्य में एक आंचलिक कथाकार के रूप में प्रसिद्ध हैं। उनका जन्म 4 मार्च 1921 को बिहार के पूर्णिया जनपद के औराही हिंगना नामक गांव में हुआ।

उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही प्राप्त की बाद में रेणु जी का फार बिसगंज, विराटनगर, नेपाल तथा हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसी से शिक्षा प्राप्त की। राजनीति में उनकी सक्रिय भागीदारी थी और वह आजीवन दमन तथा शोषण के विरुद्ध संघर्ष करते रहे। 

सन् 1942 में रेणू ने स्वाधीनता संग्राम में भाग लिया और 3 वर्ष तक नजरबंद रहे। जेल से छूटने के बाद उन्होंने किसान आंदोलन का नेतृत्व किया। यही नहीं उन्होंने नेपाल की राणा शाही के विरुद्ध सशस्त्र संघर्ष भी किया लेकिन 1953 में साहित्य सृजन में जुट गए।

राजनीति आंदोलन से उनका गहरा जुड़ाव रहा पुलिस तथा प्रशासन का दमन सहते हुए वे साहित्य सृजन में जुटे रहे।

सत्ता के दमन चक्र का विरोध करते हुए उन्होंने राष्ट्रीय सम्मान “पद्मश्री” की उपाधि का भी त्याग कर दिया 11 अप्रैल 1970 को इस आँचरिक रचनाकार का निधन हो गया।

Continue Reading

Related Creative Writing Articles See all Articles

line.svg