Suryakant Tripathi Nirala In Hindi | सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

Suryakant Tripathi Nirala Biography In Hindi

महाकवि निराला छायावाद के चार प्रमुख कवियों में से एक थे आधुनिक हिंदी साहित्य के विकास में में उनका महान योगदान है। उनका जन्म 21 February 1899, भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के पश्चिम मेदिनीपुर ज़िले में स्थित एक शहर के महिषादल नामक रियासत में बसंत पंचमी के दिन हुआ था। इनके पिता पंडित रामसहाय त्रिपाठी उन्नाव जिले के रहने वाले थे किंतु जीविकोपार्जन के लिए महिषादल नामक रियासत में आकर बस गए थे।

बचपन में ही निराला जी की माता का स्वर्गवास हो गया था उनके पिता अनुशासन प्रिय थे। इसलिए उनके इस स्वभाव के कारण बालक को अनेक बार- मार खानी पड़ी। 13 वर्ष की आयु में ही निराला जी का विवाह मनोहर देवी नामक कन्या से कर दिया गया था। किंतु वह एक पुत्र और पुत्री को जन्म देकर स्वर्ग सिधार गई। 

निराला जी को साहित्य जगत में भी आरंभ में अनेक विरोधों का सामना करना पड़ा। उनकी अनेक रचनाएं व लेख अप्रकाशित ही लौटा दिए जाते थे महावीर प्रसाद द्विवेदी ने उनकी जूही की कली कविता लुटा दी थी। किंतु बाद में उनसे मिलने पर द्विवेदी जी भी उनकी प्रतिभा से प्रभावित हुए बिना रह न सके।

Continue Reading

Related Creative Writing Articles See all Articles

line.svg